हरियाणा-बन्द पड़ी राइस मिल, विजली विभाग ने भेजा 90 करोड़ का विल ! – Republic Hindustan News

Republic Hindustan News

Latest Online Breaking News

हरियाणा-बन्द पड़ी राइस मिल, विजली विभाग ने भेजा 90 करोड़ का विल !

😊 Please Share This News 😊

बिजली विभाग की गड़बड़ियों के किस्से तो आपने सुने होंगे, लेकिन हरियाणा के सिरसा में विभाग की एक लापरवाही चर्चा का विषय बन गई है. जी हां, यहां के कलांवली इलाके में चलने वाली एक राइस मिल को तकनीकी गड़बड़ी की वजह से विभाग ने 90 करोड़ रुपए से ज्यादा का बिल भेज दिया है. लॉकडाउन के दौरान बंद पड़ी मिल के ऊपर इतना भारी-भरकम बकाया देखकर राइस मिल संचालक के भी होश उड़ गए हैं. उसका कहना है कि आम तौर पर जहां 5-6 लाख का बिल आता था, उसकी जगह इस बार पूरे 90.137 करोड़ रुपए का बिल भेजा गया है।

यह पूरा मामला सिरसा के कलांवली इलाके में चलने वाली गणेश राइस इंडस्ट्रीज का है. बिजली विभाग ने इस मिल के संचालक को बीते दिनों 90.137 करोड़ रुपए का बिजली बिल भेजा है. राइस मिल के संचालक ने बताया कि भारी-भरकम बिजली बिल का ऐसा मामला पहली बार सामने आया है. उन्होंने कहा कि आम तौर पर मिल में जितनी बिजली खपत होती है, उसके मद्देनजर 5 से 6 लाख रुपए के बीच में ही बिल आता है, लेकिन इस बार तो हद हो गई. उन्होंने कहा कि फैक्ट्री चलने के दौरान इतना बिल आम बात है, लेकिन अभी जबकि कोरोना लॉकडाउन की वजह से काम-धंधा बंद है, फैक्ट्री भी बंद पड़ी है, ऐसे में 90 करोड़ रुपए से ज्यादा का बिल समझ से परे है।

*इस गड़बड़ी को जल्द ही ठीक कर लिया जाएगा*

उधर, 90 करोड़ रुपए से ज्यादा बिल भेजे जाने का मामला सामने आने के बाद बिजली विभाग में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में इस भारी-भरकम बकाया राशि की जांच की गई तो पता चला कि सॉफ्टवेयर की गड़बड़ी से राइस मिल के ऊपर 90.137 करोड़ रुपए का बिल जेनरेट हो गया. सब-डिविजनल ऑफिसर रवि कुमार ने एएनआई को बताया कि नए सॉफ्टवेयर में आई गड़बड़ी की वजह से राइस मिल के ऊपर इतना बकाया बिल दिख रहा है. इस गड़बड़ी को जल्द ही ठीक कर लिया जाएगा।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

लाइव कैलेंडर

June 2024
M T W T F S S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
error: Content is protected !!